भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुरु के सबद-बाण, छतिया समाइ गेलै / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुरु के सबद-बाण, छतिया समाइ गेलै।
टीस मारै दिन अरु रात॥1॥
जोगिनी के भेष लेबै, घर-द्वार छोड़ि देबै।
होइ जैबै जग सें उदास॥2॥
सतगुरु-संग जैबै, फेरु नहिं घर ऐबै।
रहि जैबै गुरु-दरबार॥3॥
जैसें के राखतै गुरुँ, वैसैं के रहिबै हम।
करबै पालन उपदेश॥4॥
गुरुँ जे खिलैतै खैबै, गुरुँ जे पिन्हैतै पिन्हबै।
कहियो नैं करबै मन छोट॥5॥
सब सुख छोड़ि देबै, सब दुख सहि लेबै।
सेवा में गलैबै येहो देह॥6॥
डाँटतै जौं गुरुँ मोरा, मारतै जौं गुरुँ मोरा।
तइयो नैं तजबै गुरु-सेव॥7॥
किछुओ नैं कहबै हम, किछुओ नैं माँगबै हम।
उमर बितैबै यहि भाँति॥8॥
येहो समदन सखी, ‘लाल दास’ गैलकै हे।
करि लेहो मन में विचार॥9॥