भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुस्सा / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सममुच बहुत बुरा है गुस्‍सा।
गुस्‍से में सब उल्‍टा-पुल्‍टा।

गुस्‍से में है तोड़ा-फोड़ी।
गुस्‍से में है नाक-सि‍कोड़ी।

गुस्‍से में है मारा-मारी।
गुस्‍सा है गड़बड़ बीमारी।

जब आए तब चलता कर दो।
हँसकर मुँह में हलुवा भर दो।