भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गूगल अर्थ पर गाँव / सत्यनारायण सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
गूगल अर्थ पर
गाँव खोजकर
बड़ी ख़ुश हुई बिटिया
खिल गई बाँछें
और एक ही किलक ने उसकी
बुला लिया
रसोईघर में आटा गूँधती माँ को ।
लिथड़े हाथों माँ ने उसकी
देखा बड़े कौतूहल से
पूरा का पूरा गाँव ।

गली, तालाब, स्कूल अपना मौहल्ला और
देख लिया घर भी अपना ।
बोली बिटिया-
इस पर दुनिया का हर गाँव,
गली, बाज़ार, दरख़्त, खेत, समुद्र
सब दिख जाता है साफ़-साफ़ ।
बड़ी जिज्ञासा और उमंग भर दिल में अपने
पूछा उसकी माँ ने-
नानी का गाँव, घर भी दिखला देगी?

माथापच्ची करते-करते
खोज निकाला जब बिटिया ने
तो हर्ष का पार नहीं रहा और
बैठ गई निकट ही खाट पर,
गड़ा दीं नज़रें
कम्प्यूटर स्क्रीन पर ।

यह बस-अड्डा, यह गली, यह चौगान
और चौगान में
इस दरख़्त के पास वाला
बड़ा-सा यह घर.....
देर तक निहारती रही बिटिया की माँ
फिर टपक पड़ी दो बूँद
आँखों से उसकी,
जिनमें अब तक थी
एक सुनहरी चमक ।

नानी के घर में होती
काश तेरी नानी भी पर...
रुंध गया गला और कह पाई
बस एक कहावत अपनी भाषा में
सुना था जिसे कभी माँ से अपनी-
'सासू बिना किस्यो सासरो
अर माँ बिना किस्यो पी'र'।