भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गेहूँ-गुलाब / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुँह-उपरें विहसै गुलाब
हुन्नें गेहूँ असनैलऽ छै।
घरे-घरे सुण्डा घूरै
आटा लागै अनसैलऽ छै।

दाम करै छै सनमन पिल्लू
मक्खी भन्नभनैलऽ छै
जेकरा अंगे काँटे-काँटऽ
वहेॅ गुलाब कहैलऽ छै।

गेहूँ धूरा में लोटै छै
गमला गुलाब सजैलऽ छै
माटी के रस चूसी-चूसी
सब दिन गुलाब मुसकैलऽ छै।

पेट भरै गेहूँ के बाली
सबके देहें समैलऽ छै
तब्बो कैन्हें सबके नजरें
गुलाबे केश मढ़ैलऽ छै?