भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गे बेटी पढ़ी ले अँग्रेजी / मीरा झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गे बेटी पढ़ी ले अंग्रेजी तबेॅ जान बचतौ
जों जिनगी में बाबू सें खटपट होतौ
तोरा आगू डाइबोर्स के पेपर देतौ
दसखत करिहैं नै गे बेटी...
तोरा हरान करतौ....
जे कहियो नै कोय कहने रहेॅ
कही देलकौ जमाय ने
टीस मारै छै झूठ बातोॅ के
लोर बहै छै आँख सें

गे बेटी के हमरा आँखी के लोर पोछतै...
पैसा लेली बेटी केॅ खसिया बनाय छै
खसिया के कसैया बनी बातो बनाय छै
हित मोहिम सब ओकरा डरें
हों में हों मिलाय छै
गे बेटी जानी बूझी बातोॅ केॅ चुभाय देतौ...

बातोॅ के हुरकुच्चा मारी भोटी पकाय छै
हमरा आबेॅ चारो बगल कुच्छू नै सोहाय छै
पैहने भाय बाप डाक बोलै छै
बीहा के बाद जमाय बोलै छै

गे बेटी केकरा बातोॅ पै आबेॅ के भरोसा करतै...
इगो के बेमरी चललै कुष्ट पोलियो फीका भेलै
लड़की टॉप पढ़ै में हुअेॅ देखै में माधुरी हेमा
ईगो फिगो के दरेश नै कठपुतली जहीना
तैयो माई-बाप केॅ गारिये सुनाय देतै
हे हो ई क्रोनिक के आबेॅ की उपचार होतै
हे हो ई क्रोनिक के आबेॅ की उपचार होतै...
बेटी केॅ बिकल करै छै मजबूरी केॅ चारा दै छै
बीहा के पैहने ऐठै जुटै छै, बादोॅ में धमकावै छै
छोड़ी देभौं बेटी केॅ कही-कही डराबै छै
हे इ्र लेॅ, हे उ लेॅ, जेहे लेभेॅ सेहे लेॅ
तैयो थुथुनोॅ (मुहों) पर नै हँसी के फुहार देखै छी
बेटी के मुहमा परेखतें विहान करै छी...
धूरी-धूरी बाबू दिस देखथैं रहै छी
की कहलकौ बेटी गे पुछथैं रहै छी
केबड़ा खुललोॅ बेटी निकलली दौड़ी पड़ै छी
गे बेटी कखनू कहाँ कखनी की कही देतौ...
रजिस्ट्री कचहरी के भाषा सभ्भैं नै बुझै छै
डॉक्टरोॅ के लिखलोॅ चिटा दवाइये बलाँ बुझै छै
ओकिलोॅ के लिखलोॅ ओकिल्हैं बुझै छै
हिन्दी में छौ ई हाल अंग्रेजी में भेलौं नेहाल
गे बेटी टाका लेली लड़ै के बाजार देखैतौ...
गे बेटी आबेॅ की तितम्मा में परान रहतौ...
गे बेटी, साहस करें आगू बढ़ें मुरझावें नै चेहरा
स्वयंभू के ताकत राखें नै हहरें ले सेहरा

प्रेमोॅ के फुलवारी बेटी सही में लगाय दैं
फ्रीडम फाइटर खूनोॅ के रंग देखाय दैं
जे सहेॅ से लहेॅ बेटी खूब मिलतौ
जान बचतौ तेॅ बेटी शान बचतौ
भारत माता के बेटी के गुमान बचतौ