भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गैरा बिटि सैंणा मा / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे द्यूरा!

स्य राजधनि

गैरसैंण कब तलै

ऐ जाली?

बस्स बौजि!

जै दिन

तुमरि-मेरि

अर

हमरा ननतिनों का

ननतिनों कि

लटुलि फुलि जैलि

शैद

वे दिन

स्या राज-धनि

तै गैरा बिटि

ये सैंणा मा

ऐ जाली।