भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रीषम प्रचंड घाम चंडकर मंडल तें / देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्रीषम प्रचंड घाम चंडकर मंडल तें,
घुमड्यौ है ’देव’ भूमि मंडल अखंड धार ।
भौन तें निकुंज भौन, लहलही डारन ह्वै,
दुलही सिधारी उलही ज्यों लहलही डार ॥
नूतन महल, नूत पल्लवन छवै छवै से,
दलवनि सुखावत पवन उपवन सार ।
तनक-तनक मनि-नूपुरु कनक पाई,
आइ गई झनक-झनक झनकारवार ॥