भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घरु बि तुंहिंजो वरु बि तुंहिंजो / कला प्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिकिड़ी ॻाल्हि थी बुधायांइ
हिकु घुमिरो
सहुरएं खे बि छेॾकु लॻो हो
हूअ मुखियाणी सुञाणीं?

वेचारी जुवानीअ में बेवा थी हुई
तंहिं सां वञी अटिकिया
सॼो ॾींहुं पेई रड़न्दी हुअसि
रात त ॾाढी डुखी गुज़िरन्दी हुई
पंहिंजो हंधु पराओ लॻन्दो होमि
बसि अमड़ि! छा बुधायांइ!
ॿ-टे साल अहिड़ा गुज़िरिया...
पोइ अलाए मुंहिंजीअ माठि
मोटाए आंदुनि
अला ॿाहिर कुझु थियो
सा त खु़दा खे ख़बर!
ज़ाल ज़ाति जो जनमु ई अहिड़ो आहे
इहो डंगु बि सहिणो थो पवे
घरु बि तुंहिंजो आहे
वरु बि तुंहिंजो आहे
कुंवारि! तूं छो थी लुछीं फथिकीं
तोखे लुछन्दो फथिकन्दो ॾिसी
मुंहिंजो जीउ ॾरियो पवे...