भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर-1 / अरुण देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबसे पहले फावड़ा आया एक झुके हुए मज़दूर के कन्धे पर
फावड़े ने झुक कर कहा धरती से
मिट्टी चाहिए
मज़दूर के नाख़ूनों से मिट्टी का पुराना परिचय ठहरा
उसे पता था कहाँ से लेनी है मिट्टी, कहाँ की लेनी है मिट्टी, कितनी लेनी है मिट्टी
मिट्टी भुरभुराई और उसके अंगोछे में आ बैठी
सिर पर प्रतिमा की तरह ले जाते उस भगीरथ को ज़रा देखो
सारी इमारते उसी की लाई हुई हैं ।