भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर के हिस्से चार हुए / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर के हिस्से चार हुए
माँ-बापू लाचार हुए

दुख आया तो अपनों के
दर्शन तक दुश्वार हुए

मर जाना भर शेष रहा
हमपे इतने वार हुए

दुनियादारों में रहकर
हम भी दुनियादार हुए

कुछ सपने तो टूट गए
कुछ सपने साकार हुए