भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर से बेघर था, क्या करता / श्याम सखा 'श्याम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


घर से बेघर था, क्या करता
दुनिया का डर था, क्या करता

जर्जर कश्ती टूटे चप्पू
चंचल सागर था, क्या करता

सच कहकर भी मैं पछताया
खोया आदर था, क्या करता

चन्दा डूबा, तारे गायब
चलना शब भर था, क्या करता

ठूंठ कहा था सबने मुझको
मौसम पतझर था, क्या करता

ख़ुद से भी तो छुप न सका वो
चर्चा घर-घर था, क्या करता

आख़िर दिल मैं दे ही बैठा
बाँका दिलबर था, क्या करता

ना थी धरती पाँव तले, ना
सर पर अम्बर था, क्या करता

मेरा जीना मेरा मरना
तुम पर निर्भर था, क्या करता

सारी उम्र पड़ा पछताना
भटका पल भर था, क्या करता

बादल बिजली बरखा पानी
टूटा छप्पर था, क्या करता

सब कुछ छोड़ चला आया मैं
रहना दूभर था, क्या करता

थक कर लुट कर वापिस लौटा
घर आख़िर घर था, क्या करता