भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर / बद्रीनारायण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ बिल्ली को खदेड़ता
दिख जाएगा खरगोश
वहीं अपना घर बनाऊँगा

वहीं शीत वसंत लाऊँगा
वहीं लगाऊँगा
सेब, नारंगी संतरा

वहीं कामधेनु पोसूँगा
वहीं कवियो, बुलाऊँगा तुम्हें
और काव्य पाठ कराऊँगा
जहाँ बिल्ली भागती होगी
और पीछे से खदेड़ता होगा
खरगोश...