भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर / मंजरी श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझसे पूछा उन्होंने कहां हो...?
मैंने कहा घर में

किस घर में?
तुम्हारे तो बहुत सारे घर हैं

उन्होंने यह पूछा
तो पहली बार मुझे लगा कि
सचमुच जो औरत वेश्या बन जाती है
उसका अपना कोई घर नहीं होता
रोज़ उनके घर बदलते रहते हैं

जैसे घर न हो
रोज़ नया आदमी हो!