भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घुरु-घुरुर-घुरुर चकिया ब्वालै / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घुरु-घुरुर-घुरुर चकिया ब्वालै
बूढ़ी ककियनि का जिउ ड्वालै
पिसनहरी पिसना पीसति है।

हरहन कै घंटी बाजि रही
कोउ तड़के बासन माँजि रही
अपनी मेहनति घर का दाना
नित पीसै लल्ली मनमाना

वा गावै सीताहरन
मोर जिउ टीसति है।

सविता की किरनैं फूटि रहीं
कुंता-छंगो सुखु लूटि रहीं
तिकड़म की चालन ते अजान
बिनु ब्याही बिटिया है जवान
सुख-दुख मा घरहेम बैठि
आँखि वा मीसति है।