भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घोषणा / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तो मैं नही रहा हूँ प्रकाश का कवि,
और नही हूँ अन्धकार का कवि;
अब तो हूँ मैं, वर्षा-होते-में चमक-उठती
सजल-चम्पई धूप का कवि!

अब मैं नहीं रहा हूँ मुसकान का कवि,
और न ही हूँ मैं अश्रु-उच्छ्वास का कवि;
अब तो हूँ मैं साश्रु मुसकान का कवि!

अब मैं नही रहा हूँ प्रभात का कवि,
और न ही हूँ मैं वसन्ती रात का कवि;
अब तो हूँ मैं-
तहों-जमे सिलहटी बादलों से छनते,
शिशिर के अवसाद-करुण सूर्यास्त का कवि!