भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंदन वन / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदन वन खिसकलै
झारखण्ड विहार सेॅ अलग भेलै
कोय नै चाहै छेलै
सिरिफ नेता छोड़ी केॅ।
ओकरा जरूरी छेलै
अलग राज्य के सत्ता सुख
विकास सेॅ कहिया मतलब रहलोॅ छै
ऐकरा सिक्षी केॅ।
झारखण्ड विकास आरो सुख-सुविधा के नामोॅ पर
अलग तॅे होलै मतुर कि जनता रोॅ सुख रही गेलै
धरलोॅ ताखा पर।
नौकरशाह आरो नेता रोॅ लूट
वदस्तुर जारी छै।
कहिया खतम होतै ई?
यहीं असरा मेॅ अटकलोॅ छै
कवि प्रभात के प्राण।