भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चक्र हो जिन्दगी यो / बद्रीप्रसाद बढू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैले आफ्नै मृदुल मुटुको धून सम्झी रमाई
कैले एक्लै सरल गतिका गीत गाई कराई
कैले कैले धुरु धुरु रुँदै आँसु धारा बगाई
काटें मैले दिनहरू कठै !! कष्टमा छट्पटाई//१//

कैले कोही सहृदयी हुँदा दुःख साह्रा बिसाएँ
कैले कैले हृदय गतिको भावना पोख्न पाएँ
कैले एक्लै धुरु धुरु रुँदै आँशु धारा बगाएँ
मैले धेरै दिनहरू कठै !! कष्ट खाँदै बिताएँ //२//

मैले आफ्नै सुख र दुखका भावना भोग्न पाएँ
बुझ्दै सोच्दै विचलित नभै कर्म गर्दै रमाएँ /
देख्दै भोग्दै सुख र दुखको मर्म मैले बुझेको
घुम्दै जाने सुख र दुखको चक्र हो जिन्दगी यो//३//