भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चटरबण्टू / पढ़ीस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम कहाँ ति बनि-ठनि आयउ लाला,
चटपटचंद चटर-बण्टू।
युहु ट्वाना-टटका पढ़ि आयउ का,
चटपटचंद चटर-बण्टू।
द्याखति मा ददुआ नीक-नीक मुलु,
बिसु-रस-भरे कनक-घट हउ।
नस-नस मा माहुरू डँसा चह्यउ तुम,
चटपटचंद चटर-बण्टू।
यह खुबयि मुरहटी[1] बूँकति हउ का,
हउ तउ काल्हिन के मुरहा!
बुढ़उ खाँसे उयि जागे द्याखउ।
चटपटचंद चटर-बण्टू।
तुम लाखु तना ते झरपट्टउ[2] का,
ठाढ़यि रहिहउ मुँहु बाये।
अस अण्टा-चित्तु-गफील[3] गिरउ तुम,
चटपटचंद चटर-बण्टू।
तुम अयिस ‘पढ़ीस’ ति अइँठे हउ,
जिहि का च्याला संसारू भवा।
अब अपनि पढ़ीसी चाटउ चमकू,
चटपटचंद चटर-बण्टू।

शब्दार्थ
  1. शैतानी, बदमाशी
  2. झपटना
  3. गलतफ़मी में रहने वाला, खब्तुल्हवास