भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्दनमन (भूमिका) / रचना श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


रचना श्रीवास्तव की हाइकु-दुनिया इन सबसे अलग रंगों की पिटारी से भरी है ।
वहाँ वात्सल्य का पितृगृह के प्रति कन्याओं के प्रेम का अछूता , अनूठा रूप बिखरा है ।
बेटा प्रवास में है (शायद शिक्षा प्राप्ति के लिए ) ।
माँ की ममता घर में हर उस चीज़ को दुलारती है जो उसके बेटे की है-

बेटे का कोट
रोज़ धूप दिखाती
प्रतीक्षा में माँ’

बेटी अपने पितृगृह में है, उसे भविष्य का ज्ञान है कि कहीं दूर उसे अपना घरौंदा बसाना है,उड़ जाना है । आज की ज्वलन्त समस्या -प्रतिभा-पलायन से उत्पन्न उन माता-पिताओं की है जो बुढ़ापे की असह्य वेदना अकेले भुगतने को मज़बूर हैं-

डॉलर छीने
बेसहारा की लाठी
सूना आँगन