भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्दनी छाँह में / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी दीप की
साधना सीप की
अरगनी बन गई

तन गई रश्मियाँ सिन्धु से द्वार तक
रोशनी के खुले और पिछले सबक
                      हर मुसीबत मुई
                      मुस्कुराती हुई
                      चाँदनी बन गई

डाल कर बाँह में बाँह फिर से हमें
ये हवा ले चली चन्दनी-छाँह में
सिरफिरी घाम की
हर घड़ी शाम की
करधनी बन गई

टूटना अश्रु का थम गया, रुक गया
पर्वती कन्ध पर नील नभ झुक गया
                      मौन सम्वेदना
                      गन्ध की चेतना
                      सनसनी बन गई