भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्‍द्रमा / सुभाष काक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चन्‍द्रमा को केवल देखिए नहीं
नीचे ले आइए।

इसकी आकृति
अपने साथ रखिए
थैली में,
गोल पैसे की तरह।

इसे काटिए
बाँटिए।

इसे दो बनाकर
आँखों पे रखिए
सुख चैन के लिए।