भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलाचल मन तू ब्रिज की ओर / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चला चल मन तू ब्रज की ओर ।
जहां गोपियां राधा संग में, नांचे नन्दकिशोर ।।
वृन्दावन में कुंजगली है, तू मन सोची बात भली है ।
रास और महारास देखना, होकर प्रेम विभोर ।।
वहीं मिलेंगें श्याम सलौना, देख-देख सब कोना-कोना ।
श्यामा श्याम मिलेंगें दोनों, देखुंगा कर जोर ।।
मोर मुकुट धर पिताम्बर धर, जय-जय मोहन जय मुरलीधर ।
मोही एक डर लग रहा मनहर, कृष्णा है चित चोर।।
नन्दलाल ब्रजराज कन्हैया, पार लगाना मोरी नैया ।
कर्महीन शिवदीन दीन की, बिरियां आना दौर ।।