भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल बे घोड़े / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल बे घोड़े सरपट चाल
दो दिन में पहुंचे बंगाल
कलकत्ते की काली देखें
हुगली नदी निराली देखें

चलें वहां से फिर आसाम।
करें पहाड़ों पर आराम।
ऐड़ लगावें पहुचें दिल्ली,
गड़ी जहाँ लोहे की किल्ली।
चलें वहां से फिर पंजाब
लांघें झेलम और चनाब।
ऐड़ लगावें मथुरा आवें
हरिद्वार काशी को जावें।
चल बे घोड़े सरपट चाल
दो दिन में पहुंचें बंगाल।