भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल मेरी साइकिल / रमेश आज़ाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल मेरी साइकिल
चल री, चल।
जब जी चाहे
घूम-टहल।
आँगन-आँगन तू बढ़ जा
गलियारे में तू बढ़ जा,
कमरे में यदि जगह न हो
छत के ऊपर चढ़ जा!
सब से आगे सदा निकल!
चल मेरी साइकिल
चल री चल!
पटरी-पटरी बढ़ती जा
बीच सड़क से बचती जा,
भरकर के फर्राटे तू-
अपनी मंज़िल चलती जा!
भीड़-भड़क्का संभल-संभल!
चल मेरी साइकिल
चल री, चल!
घंटी बजा-बजा के चल
बचकर, अरी बचाके चल,
हक्के-बक्के देखें सब
ऐसी धूम मचाके चल!
चल री रस्ते बदल-बदल!
चल मेरी साइकिल
चल री, चल!