भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाँदनी पूरनमासी की / कात्यायनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छैल चिकनिया नाच रही है।
डार कटीली आँखें पापिन
भिगो रही है जीवन-जल से
भेद-भाव से ऊपर उठकर
घूम-घूम कर गाँव-डगर सब
प्यार-पँजीरी बाँट रही है।

रचनाकाल : जनवरी-अप्रैल, 2003