भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद अेकलो : दो / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुणीजै
चांद अडाणै म्हैलीजै

भीड़ री
जितरी ईज अबखायां हुवै
चांद उणा री रामबाण

इण वास्तै ओ दावो है
सबद जद पूगै
आभै ताईं
चां रो थान हुवै (रीतो)।