भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद - तारे / विष्णु नागर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे चाँद चाहिए था
लेकिन मैं चाँद की तरफ बढ़ने लगा तो मुझे तारों ने मोह लिया
और मैं सोचने लगा एक चाँद के लिए इतने तारों को कोई
कैसे छोड़ दे

चाँद ने जब मेरा रुख भापा तो
एक तारा बन गया।