भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाऊँ-माऊँ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोल-गोल, गोल-गोल
घेरा बनाओ।
चाऊँ-माऊँ! चाऊँ-माऊँ!
चक्कर लगाओ।

अड़ी-बड़ी, अड़ी-बड़ी,
आलस भगाओ।
चाऊँ-माऊँ! चाऊँ-माऊँ!
चक्कर लगाओ।

पीप-पिपी, पीप-पिपी
सीटी बजाआ।
चाऊँ-माऊँ! चाऊँ-माऊँ!
चक्कर लगाओ।

हहा-हिही, हहा-हिही,
सबको हँसाओ।
चाऊँ-माऊँ! चाऊँ-माऊँ!
चक्कर लगाओ।

छम्म-छमक, गम्म-गमक,
नाचो-नचाओ।
चाऊँ-माऊँ! चाऊँ-माऊँ!
चक्कर लगाओ।