भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चान्द की ठण्डक, रात की रानी, मैं और तुम / नासिर परवेज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चान्द की ठण्डक, रात की रानी, मैं और तुम
इश्क़ फसाना, वस्ल कहानी, मैं और तुम

मुद्दत बाद मिले थे लेकिन चुप चुप थे
लब पे ख़मोशी, आँख में पानी, मैं और तुम

दोनों इक दूजे के प्रेम में पागल हैं
कृष्ण कन्हैय्या, राधा रानी, मैं और तुम

आओ जानां! आज नया दर खोलेंगे
अब न करेंगे बात पुरानी, मैं और तुम

सुध बुध खो कर इक दूजे को चूमते हैं
सुन्दर फूल पे भंवरा यानी मैं और तुम

नासिर मैंने अब के ख़्वाब ये देखा है
नदी कनारा, शाम सुहानी, मैं और तुम