भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चार रंग के चार सिंहासन चारों पै बैठारे जी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चार रंग के चार सिंहासन चारों पै बैठारे जी।
पूरी कचौरी बड़ा दही के परसी विविध खटाई भले जू।
हलुआ इमरती बालूशाही गुझिया नुक्तीदार बनाई भले जू।
खाजा खुरमा गरम जलेबी पापड़ पुआ सोहाय भले जू।
दूध औ रबड़ी मक्खन मिश्री मोहन भोग मलाई भले जू।
विविध अचार मुरब्बा चटनी कोउ करि सकै न गिनाई भले जू।
भटा रतालू घुइयाँ परसी औ परस दई दाना मैथी भले जू।
छप्पन प्रकार के भोजन बने हैं हरषें सभी बराती भले जू।
मन हुलसाय जनकजू बोले जीमहु चारउ भैया भले जू।