भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाल भतूळा रेत रमां! : तीन / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पड़ाल री ओट
खड़ी रेत.!

हेत रा फूटता
अलेखूं झरणां

लुक-लुक जोवै
टेढी निजरां
जीव री जड़ नै।

मन में भर उडार
चावै जावणो
नैण मिलावणो।

भतूळियो-
तेज रै परवाण
नीं बस में हरेक रै
झेलणो उण री झळ नै।

स्यात-
इण सारू रेत
दबावती हेत
चावै नीं उडणो
फटकारै सूं।

रेत री नीत
उडणो नीं
दुड़णो नीं

होय अेक
साथै साथै मुड़णो है.!