भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहा बहुत के इश्‍क़ की फिर इब्तिदा न हो / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहा बहुत के इश्‍क़ की फिर इब्तिदा न हो
रूसवाइयों की अपनी कहीं इंतिहा न हो

जोश-ए-वफ़ा का नाम जुनूँ रख दिया गया
ऐ दर्द आज ज़ब्त-ए-फु़गाँ से सिवा न हो

ये ग़म नहीं के तेरा करम हम पे क्यूँ नहीं
ये तो सितम है तेरा कहीं सामना न हो

कहते हैं एक शख़्स की ख़ातिर जिए तो क्या
अच्छा यूँ ही सही तो कोई आसरा न हो

ये इश्‍क़ हद-ए-ग़म से गुज़र कर भी राज़ है
इस कशमकश में हम सा कोई मुब्तला न हो

इस शहर में है कौन हमारा तेरे सिवा
ये क्या के तू भी अपना कभी हम-नवा न हो