भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाह अब भी हो उसे मेरी, ज़रूरी तो नहीं / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चाह अब भी हो उसे मेरी, ज़रूरी तो नहीं
ऊम्र भर याद हो बचपन की, ज़रूरी तो नहीं
 
प्यार करने का उसे हक़ तो सभीका है मगर
प्यार बदले में करे वह भी, ज़रूरी तो नहीं

हर अदा उसकी क़यामत बनी है मेरे लिए
जानता भी हो इसे कोई, ज़रूरी तो नहीं

वक़्त मिलता नहीं मिलने का तुम्हें, सच है, मगर
बस यही एक हो मजबूरी, ज़रूरी तो नहीं

कहा गुलाब से मिलने को तो हँसकर बोला,
'आख़िरी रात हो यह उसकी, ज़रूरी तो नहीं '