भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिट्ठी तुम्हारे नाम / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौट आई जो लिखी
  चिट्ठी तुम्हारे नाम

  लहरियों ने याद की
  पकड़ी कलाई थी
  खिंच गई तस्वीर
  आंँखों में विदाई की
  आंँख का तारा हुई है
  वह सुनयना शाम

  बोलने से यह लजीला
  मौन घबराए
  एक खालीपन कहांँ तक
  घाव भर जाए
  बंद हैं क्या इस सदी में
  मौसमों के काम

  वह न होकर भी अभी
  इस वास्ते में है
  कोई टूटा पुल अभी तक
  रास्ते में है
  देह सोती है मिला कब
  साँस को आराम ।