भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिड़िया और शिकारी / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक पेड़ पर छिपकर आया
चिड़िया सुंदर तीर चलाया
बैठी खुशदिल चिड़िया प्यारी
सबसे हिलमिल वह बेचारी
गाना गाती नीचे आई
मन बहलाती और चिल्लाई
चींचीं चूँचूँ चींचीं चूँचूँ
चींचीं चूँचूँ चींचीं चूँचूँ
गाना गाती मरी बेचारी
रस बरसाती चिड़िया प्यारी
तभी शिकारी गाना गाती
अत्याचारी मन बहलाती
अब बगिया में मीठे-मीठे
कौन गीत गाएगा
कोई भी पक्षी डरकर
अब
यहाँ नहीं आएगा
बाग लगेगा कितना सूना
होगा यहाँ न गाना
चिड़िया गई और मीठे
गीतों का गया खजाना।