भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिड़िया (एक) / अक्षय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिड़िया कहाँ जाती है
आसमान में

कहाँ जाती है वह दाने के लिए
दाना कहाँ है

किसका है पूछता है चूजा

चिड़िया लौट आती है
चुपचाप

घोंसला किसका है
घोंसले में अण्डे कौन देगा
कौन पर निकालते हुए सेंकेगा अपनी संतानों को

पूछती है चिड़िया
वृक्ष ख़ामोश है

धाँय
धाँय, धाँय
क्या हुआ ! क्या हुआ !
कौन था ! कैसा धुआँ !

चिड़िया छटपटाती है

किसने मारा ?
क्या किया था नन्हीं चिड़िया ने ?

आवाज़, आवाज़ें
आदमी, भीड़
क़दम-ताल, तेज़ क़दम
क़दम-ताल

पूछता है बच्चा
मम्मी चिड़िया मर गई न
पापा का निशाना कितना ठीक है
चिड़िया मर गई न ?

सुनते हैं चूजे
एक-दूसरे को देखते
घोंसले में सिर छुपा कर बोलते हैं
भागो
आदमी
आदमी
भागो