भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चितराम : हे नागौरण : अेक / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन बळै
आस पळै
ब’ण फोहा रूई रा
बादळ ढळै

पता हालै-चरचा चालै
आभै सामीं
चारूं कानीं
पड़ती छांट
जमती रेत
हळ बैंवता
बणग्या खेत

आस रा पग मोटा
डिग भरै-भरै कोठा

पण आस टूटै
सुख खूटै
सूखै खेत
बळता ओरण...!
चाली जद बैरण नागौरण।