भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चींटी बोली / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चींटी बोली चलो कहीं से,
च‌ना खरीदें भाई।
अब तो सहन नहीं होता है,
भूख मुझे लग आई।

चींटा बोला शक्कर-गुड़ की,
गंध मुझे है आती।
इतना मीठा माल रखा,
तू खाने क्यों न जाती।

बोली चींटी अरे भाईजी,
गुड़ से डर है लग‌ता।
जो भी उसके गया पास‌ तो,
जाकर वहीं चिपकता।