भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुनौती / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सदियों से
हम पर
वार करते
तुम्हारे सारे शस्त्र
अब भौतरा गए हैं
आओ!
मेरे ही खोदे
इस पत्थर से
इन पर सान चढ़ाओ
ताकि मुकाबला कर सको मुझसे

तेरे हर हथियार का जवाब
मैंने अब खोज लिया है।