भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुप रहा तो घुट के रह जाएगा जीने का मज़ा / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुप रहा तो घुट के रह जाएगा जीने का मज़ा ।
रोया तो बह जाएगा सब अश्क पीने का मज़ा ।

मुफ़्त में राहत नहीं देगी हवा चालाक है,
लूट कर ले जाएगी मेरे पसीने का मज़ा ।

साल भर तक एक ही मौसम न रास आएगा अब,
अब ज़रूरत बन चुका है हर महीने का मज़ा ।

एक मंज़िल और हर मंज़िल के बाद आई नज़र,
रफ़्ता-रफ़्ता हो गया काफ़ूर जीने का मज़ा ।

वो न हो तो प्यास की हालत ही होती है कुछ और,
पशोपस में ही पड़ा रहता है पीने का मज़ा ।

लुत्फ़ मंज़िल तक पहुँचने की ललक में है ’नदीम’,
ख़त्म हो जाता है साहिल पर सफ़ीने का मज़ा ।