भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छप्प-छपक / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाव चली, नाव चली,
नाव चली पानी में
छप्प-छपक, छप्प-छप्पक
नाव चली पानी में।

डुब्ब-डुबक, डुब्ब-डुबक,
चप्पू चलने लगा
पानी में मछलियाँ का
झुंड उछलने लगा

एक मछली ऊपर आई
फिर गुम हो गई
शर्माती - शर्माती
अरे, कहाँ खो गई?

मछली वह सचचुम
सबसे प्यारी, सुंदर थी
पर उसकी दुनिया तो
पानी के अंदर थी।