भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छाता / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबके छाते काले,
मेरा सात रंग का छाता।
बारिश हो या धूप सभी से
मुझको सदा बचाता।

तेज हवा में लेकिन यह
अक्सर उल्टा हो जाता।
तब झंझट-सा लगता मुझको,
कुछ भी समझ न आता।

इसीलिए जिस दिन भी इसको
अपने साथ न लाता।
बहुत-बहुत ‘मिस’ करता है,
तब मुझको मेरा छाता।