भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छात-एक / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छात तो छात है
ऊपर चढै तो नीचै पड़ण रो डर
अर
नीचै बैठै तो ऊपर पड़ण रो।

फेर ई म्हे
ऊपर ई चढां
अर
नीचै ई बैठां।
 
ऊपर चढां जद
एक पग मंडेरी माथै मेलणो
कोनी भूलां
अर नीचै बैठां जद
कद भूलां
करणी
करड़ी छाती।