भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छिन्दवाड़ा-6 / अनिल करमेले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुंबई इलाहाबाद जयपुर हैदराबाद कलकत्ता में
कितनी बार पूछा लोगों ने - कहाँ है छिन्दवाड़ा ?

और फिर ख़ुद ही कहते-
अच्छा वही न जहाँ से पार्लियामेंट में....

और मैं हर बार डूबता शर्म से
लोग कहते नहीं अघाते क्या से क्या हो गया शहर

हाँ सचमुच क्या से क्या हो गया यह शहर !
गोंडवाना के सिपहसालारों

क्या पहचान बनी है इस छिन्दवाड़ा की।