भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छिन्न-पंख / उषा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जानती हूँ
न्याय की देवी की आँखो पर बँधी पट्टी
कभी भी खुलने वाली नहीं है,

तराजू के दोनों पलड़े
कभी भी संतुलित होंगे नहीं
और फिर भी
कटे हुई पंख के मूल में बचे हुए
एकाध पिच्छ के सहारे
 
कौनसी आस लिए मैं
कोशिश कर रही हूँ
अनंत अंधकार से भरे
इस महासागर को पार करने की!?

मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं कवयित्री द्वारा