भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छुपेगी बात कब तक / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुपेगी बात कब तक
रहेगी रात कब तक

समेटें अपनी चादर
बटे ख़ैरात कब तक

संभालो अपने घर तुम
रहें तैनात कब तक

लुटी सारी तिजोरी
रहे इफ़रात कब तक

कभी तो सुल्ह कर लो
अजी शह मात कब तक