भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोड़ दो हमारी बाट रोको ना जमूना घाट / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोड़ दो हमारी बाट रोको ना जमूना घाट,
लाखन की साड़ी फटी जाय पछितावोगे।
तुमरे तो कमर की छेदामों नाहीं लागे कान्ह,
अइहें ना सभा में काम क्या भूमि पर बिछाओगे।
लाख कही हारी अरज माने ना मुरारी बात,
मान जा हमारी ना तो फेर नाहीं आऊँगी।
द्विज महेन्द्र कृष्णचन्द्र मान जा हमारी बात,
राय से रहोगे तो फेर काल्ह आऊँगी।