भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जका सोध्या है आज / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काळी नीं ही
कोई बंग
गाभा भी नीं हा
धूडिय़ा धूळ जीवाश्म
जका सोध्या है आज।

बोरंग चूंदड़ी
केसरिया कसूंम्बल में
सज्योड़ी सुहागणां
खणकांवती हो सी
सुहाग पाटला
लाल-पीळा-केसरिया।

बगत रै जै’री
बळतै डस्यौ हो सी
जणां ई तो उतर्यो है
रंग-बंग माथै काळो
काळीबंगा करतो
सोनळ अतीत नै।