भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग में पग / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जूण जातरा
भेळप में सधै
पूगै ठोड़
जका भेळा बधै।

नस
निजर सूं
पेट खाथो
टाळै टोळी सूं।

जग में पग
हळवा-हळवा उठै
पण भाजै मन
जद
हरियाळा सुपना
हुवै साम्हीं।