भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग सूँ कहा हमारा / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगसूँ कहा हमारा।
जब देख्या नूर तुम्हारा॥टेक॥

परम तेज घर मेरा।
सुख-सागर माहिं बसेरा॥१॥

झिलिमिलि अति आनंदा।
पाया परमानंदा॥२॥

जोति अपार अनंता।
खेलै फाग बसंता॥३॥

आदि अंत असथाना।
दादू सो पहिचाना॥४॥